Pm मोदी ने लॉन्च की नमामि‍ गंगे, कहा- बिहार सर&#2325

PM मोदी ने लॉन्च की नमामि‍ गंगे, कहा- बिहार सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करेंगे



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे बिहार पहुंचे. विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राज्यपाल सतपाल मलिक और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी शिरकत की. बिहार में जेडीयू-बीजेपी की गठबंधन सरकार बनने के बाद पीएम मोदी का यह पहला दौरा है, जहां सीएम नीतीश और प्रधानमंत्री के बीच काफी गर्मजोशी देखने को मिली.
Live Updates :
-पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि गंगा को बचाना आने वाली भावी पीढ़ी को बचाना है.
-पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि यहां सड़क योजना का निर्माण, इस प्रदेश की समृद्धी को बढ़ाने के लिए.
-पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि सिमरिया तट के गौरवशाली इतिहास को नमन करता हूं.
-राष्ट्रीय हाईवे से जुड़े 3031 करोड़ रुपये के चार प्रोजेक्ट और 738.04 करोड़ रुपए के तीन प्रोजेक्टों का शिलान्यास करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह बेगुसराय को राजधानी पटना के साथ जोड़ने वाला ब्रिज है. पीएम मोदी ने बिहार के पहले सीएम स्व. कृष्ण सिंह की तारीफ की. साथ ही पीएम मोदी ने रामधारी सिंह "दिनकर" को भी याद किया और उनकी कविता का पाठ किया.
-पीएम नरेंद्र मोदी ने क्षेत्र‍ीय भाषा मगही में भाषण की शुरुआत की. उन्होंने मोकामावासियों से कहा कि भगवान परशुराम की इस धरती को सलाम. पीएम ने सभी को दिवाली और छठ पूजा की शुभकामना दी. पीएम ने घोषणा की कि 375 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात बिहार को दे रहा हूं.
-नीतीश बोले, नि‍तिन गडकरी के बारे में एक चीज बहुत फेमस है कि इनकी डिक्शनरी में नो शब्द नहीं है, ऐसे में उम्मीद करता हूं कि ह‍मारी मांगों के लिए भी न नहीं कहेंगे.
- नीतीश बोले,1852 करोड़ रुपये टाल क्षेत्र की योजनाओं के लिए स्वीकृत किया गया है. अगली बार पीएम अगर समय देंगे तो टाल क्षेत्र के बारे प्रस्ताव दिखाएंगे. अगर आप साथ देंगे तो इस क्षेत्र का उद्धार हो जाएगा.
मोकामा को दी ये सौगातें
पटना विश्वविद्यालय शताब्दी वर्ष समारोह में शिरकत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोकामा पहुंचे. यहां उन्होंने योजनाएं लॉन्च की, जिनकी कुल लागत करीब 4000 करोड़ रुपये के करीब है. इनमें राष्ट्रीय हाईवे से जुड़े 3031 करोड़ रुपये के चार प्रोजेक्ट और 738.04 करोड़ रुपए के तीन प्रोजेक्टों का शिलान्यास शामिल है.
प्रधानमंत्री मोकामा में एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे. इसके बाद फिर वह पटना एयरपोर्ट और वहां से दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे.
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र पटना के प्रसिद्ध संग्रहालय भी गए. यहां सीएम नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के अलावा सत्ताधारी गठबंधन के कई वरिष्ठ नेता भी उनके साथ थे.
PM @narendramodi visiting the Patna Museum in Bihar pic.twitter.com/GvadHoneus
— PIB India (@PIB_India) October 14, 2017
पीएम मोदी ने की 10 हजार करोड़ रुपये फंड की घोषणा
-IIM का उदाहरण देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि नई योजना की तहत देशभर के 10 प्राइवेट यूनिवर्सिटी और 10 पब्लिक यूनिवर्सिटी को वर्ल्ड स्टैंडर्ड बनाने के लिए सरकार के कानूनों से मुक्ति देने की योजना है. आने वाले पांच साल में इन यूनिवर्सिटी 10 हजार करोड़ रुपये फंड के रूप मेें देने की योजना है. हालांकि इसमें शामिल होने के लिए प्रफेशनल एजेंसियों की मदद से होने वाले टेस्ट में अव्वल आना होगा. पीएम मोदी ने कहा कि इसके लिए प्रदर्शन ही एकमात्र आधार होगा. मोदी ने अपील की है कि पटना यूनिवर्सि‍टी भी आगे आए और इस योजना के साथ जुड़े. मोदी ने इसके लिए पटना यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स और प्रशासन से इस योजना मेें शामिल होने की अपील की.
-पीएम मोदी ने कहा कि 10 हजार करोड़ फंड योजना में शामिल होने के लिए इन यूनिवर्सिटीज का चयन नेता नहीं करेंगे. इसके लिए प्रतिस्पर्धा होगी और प्रफेशनल एजेंसियां चयन करेगी.
-नीतीश की मांग पर पीएम मोदी ने कहा कि केंद्रीय य‍ूनिवर्सि‍टी बीते हुए कल की बात है. मैं उससे आगे ले जाना चाहता हूं.
-पीएम मोदी ने कहा कि भारत के पास टैलेंट की कमी नहीं है. आज हमारे पास 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष से कम के युवा की है. मेरा हिंदोस्तान जवां है, मेरे हिंदोस्तान की सपने भी जवां है.




-पीएम मोदी ने कहा कि स्टार्टअप की दुनिया में आज भारत चौथे नंबर पर खड़ा है, देखते देखते वह नंबर 1 पर होगा.
-पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया हमें सांप संपेरों का देश मानती थी. पहले वह सोचते थे भारत यानी भूत प्रेत, भारत माने अंधविश्वास. लेकिन जब आईटी रेवोल्यूशन में हमारे बच्चों ने ऊंगलियों पर दुनिया दिखाना शुरू कर दिया तो दुनिया की आंखें खुल गई.
-पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया में वही देश विकास कर सकता है जो इनोवेशन को लागू करे.
-पीएम मोदी ने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य है दिमाग को खाली और खुला करना लेकिन हमारा जोर हमेशा दिमाग को भरने में रहा. अब बदलाव लाना होगा.
-पीएम मोदी ने कहा कि आज की चुनौती यह नहीं है कि क्या नया सिखाएं, बल्कि‍ यह है कि पुराना कैसे भूलाएं. अनलर्न करना, लर्न करना, रीलर्न करना आज की जरूरत है. दिमाग खोलने का अभ‍ियान चलाना होगा. दिमाग जब खाली होगा तो नए चीजों को भरने की जगह बनेगी.
-पीएम मोदी ने कहा कि बिहार में सरस्वती और लक्ष्मी को एक साथ चलाना है
- पीएम मोदी ने कहा कि जितनी पुरानी गंगा धारा है, बि‍हार के पास उतनी पुरानी ज्ञान धारा की विरासत है. नालंदा को कौन भूल सकता है.
-चीनी कहावत की बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अगर आप पीढ़ियों का सोचते हैं तो मनुष्य बोइए. यह पटना यूनिवर्सिटी इसका उदाहरण है. जो बीज 100 साल पहले बोया गया, उसी का फल है कि कई लोगों ने मां सरस्वती की पूजा की और साथ ही इस देश को काफी कुछ दिया. पीएम मोदी ने कहा कि सिविल सर्विसेज परीक्षा में पहले पांच में कोई स्टूडेंट न हो ऐसा नहीं हो सकता है. बिहार के पास सरस्वती मां की कृपा है, लक्ष्मी की कृपा भी बन सकती है.
-पीएम मोदी ने सीएम नीतीश कुमार की तारीफ की.
-भाषण के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि पहले जितने प्रधानमंत्री हो गए वह मेरे लिए कई अच्छे काम छोड़कर गए हैं.
-पीएम मोदी के भाषण देने आते ही स्टूडेंट मोदी मोदी चिल्लाने लगे.
नीतीश ने रखी यह मांग
समारोह में नीतीश कुमार ने अपने छात्र जीवन को याद करते हुए कहा कि पटना यूनिवर्सिटी के साइंस कॉलेज में पढ़ाई करना सौभाग्य की बात, इंजीनियरिंग कॉलेज नहीं जाना चाहते थे. नीतीश ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पटना में श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के 350वें प्रकाश उत्सव में हिस्सा लिया था, तभी यह बात हुई थी कि पीएम अलग से फिर पटना आएंगे. साथ ही नीतीश ने पीएम से पटना यूनिवर्सिटी को केंद्रीय यूनिवर्सिटी की मांग की और पीएम मोदी से कहा कि सभी आपकी तरफ बड़ी उम्मीदों से देख रहे हैं.
उपमुख्यमंत्री ने की मोदी की तारीफ
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं जो बतौर पीएम पटना यूनिवर्स‍िटी आए हैं. सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पटना विश्वविद्यालय नहीं होता तो जेपी आंदोलन नहीं हुआ होता. इससे पहले पटना एयरपोर्ट पर पीएम नरेंद्र मोदी का स्वागत सीएम नीतीश कुमार और राज्यपाल सतपाल मलिक ने किया. प्रधानमंत्री के पटना यूनिवर्सिटी के कार्यक्रम पर रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि यह हमारे लिए गौरव की बात है कि प्रधानमंत्री हमारे यूनिवर्सिटी में आ रहे हैं. इसके गौरवशाली अतीत को वापस लाना हमारा मकसद है.
इनके अलावा केंद्रीय मंत्रियों में रामविलास पासवान, रविशंकर प्रसाद, उपेंद्र कुशवाहा और अश्विनी कुमार चौबे भी इस समारोह में हिस्सा लिया है.
 
Top