UNP

है दिल में ख़वाईश ..............

है दिल में ख़वाईश की तुझसे इक मुलाक़ात तो हो, मुलाक़ात ना हो तो फिर मिलने की कुछ बात तो करो, मोती की तरह समेट लिया है जिन्हे दिल-ए-सागर मे, .....


Go Back   UNP > Poetry > Punjabi Poetry

UNP

Register

  Views: 566
Old 28-07-2008
Royal_Jatti
 
है दिल में ख़वाईश ..............

है दिल में ख़वाईश की तुझसे इक मुलाक़ात तो हो,
मुलाक़ात ना हो तो फिर मिलने की कुछ बात तो करो,
मोती की तरह समेट लिया है जिन्हे दिल-ए-सागर मे,
ख़वाब सज़ा के, उन ख्वाबों को रुस्वा ना करो…

बहुत अरमान है की फिर से खिले कोई बहार यहाँ,
ये मालूम भी है की जा कर वक़्त आया है कहाँ,
हवा चलती है तो टूट जाते है ह्रे पत्ते भी तो कई,
तो सूखे फूलों से खिलने की तुम इलत्ज़ा ना करो…

ना ग़म करना तुम, ना उदास होना कभी जुदाई से,
वक़्त क्ट ही जाएगा तुम्हारा मेरी याद-ए-तन्हाई से,
ये दुनिया रूठ जाए हमसे तो भले ही रूठी रहे,
सच मर जाएँगे हम, तुम सनम रूठा ना करो…

लम्हा दर लम्हा बसे रहते हो मेरे ख़यालों मे,
ज़िक्र तुम्हारा ही होता है मेरे दिल के हर सवालों मे,
लो लग गयी ना हिचकियाँ तुम्हे अब तो कुछ समझो,
कह दो की bhullar मेरे बारे मे इतना सोचा ना करो


 
Old 28-07-2008
THE GODFATHER
 
Re: है दिल में ख़वाईश ..............

thnx for sharing

 
Old 28-07-2008
smilly
 
Re: है दिल में ख़वाईश ..............

thanx dear...

 
Old 22-01-2009
amanNBN
 
Re: है दिल में ख़वाईश ..............

nice....tfs...

 
Old 22-01-2009
Rajat
 
Re: है दिल में ख़वाईश ..............

nice...

 
Old 06-02-2009
jaggi633725
 
Re: है दिल में ख़वाईश ..............

nice.


Reply
« Hamari Kadar | dhee da babul nu suneha »

Similar Threads for : है दिल में ख़वाईश ..............
मधुशाला
जिन्दगी ये किस मोड पे ले आयी है ,
ईश्वर-आदमी संवाद
Lyrics सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
छिपकली है

Contact Us - DMCA - Privacy - Top
UNP