UNP

तुमने ही बदले हे सिलसिले अपनी वफ़ाओ के..

तुमने ही बदले हे सिलसिले अपनी वफ़ाओ के.. वरना, हमे तो आज भी तुम से अज़ीज़ कोई न था।.....


[Timezone Detection]
Quick Register
Name:
Email:
Human Verification


Go Back   UNP > Poetry > Punjabi Poetry > 2 Liners

UNP

Register

  Views: 684
Old 26-05-2018
♚ ƤムƝƘムĴ ♚
 
तुमने ही बदले हे सिलसिले अपनी वफ़ाओ के..

तुमने ही बदले हे सिलसिले अपनी वफ़ाओ के..
वरना, हमे तो आज भी तुम से अज़ीज़ कोई न था।


Reply
« कर लेता हूँ बर्दाश्त हर दर्द इसी आस के साथ.. | इश्क़ वो है.. »

Similar Threads for : तुमने ही बदले हे सिलसिले अपनी वफ़ाओ के..
लगता है तुमने बेवफ़ाई नही सिखाई
तुम बदले तो मज़बूरिया थी ,
बहुत अजीब सिलसिले हैं इस मुहब्बत और इश्क़ क
सेवा के बदले कार,आई-फोन और बंगला मांग रहे है&#
नज़र आते हैं उसके तो मुझे तेवर ही बदले से।

Contact Us - DMCA - Privacy - Top
UNP