यह कार चलेगी 1 लीटर में 200 किलोमीटर

चंडीगढ़.चितकारा इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के स्टूडेंट्स ने अपनी नई कॉन्सेप्ट कार पर से पर्दा मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरोन उठाया। स्टेल्थ 2 नामक यह कार चितकारा के मैकेनिकल इंजीनियरिंग के स्टूडेंट्स द्वारा ही बनाई गई है। कार की खासबात यह है कि यह एक लीटर में 200 किलोमीटर चलती है। 8 से 10 जुलाई तक कुआलालंपुर में होने वाली शेल इको मैराथॉन एशिया प्रतियोगिता में यह कंसेप्ट कार हिस्सा लेगी। इस प्रतियोगिता में 12 देशों से 90 से अधिक टीम हिस्सा ले रही हैं।
शेल इको मैराथॉन एशिया, एक ऐसी प्रतियोगिता है जो कि विश्व की ऊर्जा संबंधी चुनौतियों के प्रभावी समाधान ढूंढऩे का प्रयास है, इसमें स्टूडेंट्स की टीमों को शामिल किया जाता है जो कि अपनी कार बनाते हैं। इस प्रतियोगिता को दो भागों में बांटा गया है। सस्टेनेबल मोबिल्टी चैलेंज कंपीटिशप में एक ईंधन की एक सीमित मात्रा के साथ अधिक से अधिक दूरी तय करनी होती है। वहीं द ऑटोडेस्क इनोवेटिव कार डिजाइन चैलेंज कंपीटिशन में कार के डिजाइन पर गौर किया जाता है।
इस मौके विंग कमांडर आर.एस.गिल, डायरेक्टर, एडिमिनिस्टे्रशन, चितकारा इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, ने कहा कि यह हमारे लिए गर्व का समय है, जब हम इस उच्चस्तरीय प्रतियोगिता के लिए अपनी टीम स्टेल्थ 2 को प्रस्तुत कर रहे हैं। मुझे पूरा यकीन है कि हमारे स्टूडेंट्स प्रतियोगिता में चमक कर सामने आएंगे और देश का गौरव बढ़ाएंगे।
पीचडी चैम्बर में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चितकारा एजूकेशनल ट्रस्ट की महासचिव डॉ.मधु चितकारा ने स्टूडेंट्स की टीम के कैप्टन मनीष को ट्रॉफी देकर सम्मानित किया। स्टूडेंट्स के प्रयासों की सराहना करते हुए डॉ.मधु चितकारा ने कहा कि हमारा लगातार प्रयास है कि इस प्रकार की वास्तविक अनुभव प्रदान करने वाली प्रतियोगिताओं के माध्यम से चितकारा के स्टूडेंट्स क्लॉस रूम के साथ ही बेहतर प्रदर्शन करते रहे। इस प्रकार के मौके स्टूडेंट्स को अपनी प्रतिभा दिखाने के साथ ही हमारे टीचर्स और अन्य शानदार और मेघावी स्टूडेंट्स की प्रतिभा तथा मेहनत को भी सामने लाते हैं।
 

Attachments

Top