Full Lyrics O Meri Laila Lyrics in Hindi – Atif Aslam

♚ ƤムƝƘムĴ ♚

Prime VIP
Staff member
पत्ता अनारों का
पत्ता चनारों का
जैसे हवाओं में
ऐसे भटकता हूँ
दिन रात दिखता हूँ
मैं तेरी राहों में
मेरे गुनाहों में
मेरे सवाबों में शामिल तू
भूली अठन्नी सी
बचपन के कुरते में से मिल तू


रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला


तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..


(ओ मेरी लैला, लैला
ख्वाब तू है पहला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला) x 2


मांगी थी दुआएं जो
उनका ही असर है हम साथ हैं
ना यहाँ दिखावा है
ना यहाँ दुनयावी जज़्बात हैं


यहाँ पे भी तू
हूरों से ज्यादा हसीं
यानी दोनों जहानों में तुमसा नहीं
जीत लि हैं आखिर में
हम दोनों ने ये बाजियां..


रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला


तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..


(ओ मेरी लैला, लैला
ख्वाब तू है पहला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला) x 2


जाइका जवानी में
ख़्वाबों में यार की मेहमानी में
मर्जियां तुम्हारी हो
खुश रहूँ मैं तेरी मनमानी में



बंद आँखें करूँ
दिन को रातें करूँ
तेरी जुल्फों को सहला के बातें करूँ
इश्क में उन बातों से हो
मीठी सी नाराज़ियाँ


रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला


तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..


(ओ मेरी लैला, लैला
ख्वाब तू है पहला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला) x 2
 
Top