Punjab News लंगाह सिख पंथ से निष्कासित

सुच्चा सिंह लंगाह को सिख पंथ से निष्कासित कर दिया गया है। लंगाह दुष्कर्म मामले में फंसे हैं। अभी वह पुलिस कस्टडी में हैं।
जेएनएन, अमृतसर। दुष्कर्म मामले में फंसे पूर्व मंत्री सुच्चा सिंह लंगाह को सिख पंथ से निष्कासित कर दिया गया है। पांच सिंह साहिबानों की बैठक के बाद श्री अकाल तख्त साहिब की दर्शनीय डयोढ़ी से श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने यह फैसला सुनाया। उन्होंने लंगाह को पंथ से निष्कासित करते हुए कहा कि सिख संगठन सुच्चा सिंह लंगाह के साथ कोई नाता न रखें।
बता दें, पांच दिन के ड्रामे के बाद लंगाह ने बुधवार को गुरदासपुर की सीजीएम कोर्ट में जज मोहित बांसल के सामने सरेंडर कर दिया था। जज ने करीब सात मिनट तक दलील सुनने के बाद लंगाह को 9 अक्तूबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह फैसला सुनाते हुए।
28 अक्टूबर को गुरदासपुर के जेल रोड निवासी एक महिला ने सुच्चा सिंह लंगाह पर दुष्कर्म की शिकायत पुलिस को दी थी। पीडि़ता ने पुलिस को वीडियो भी दिया था, जिस पर कार्रवाई करते हुए 24 घंटे में ही मामला दर्ज कर लिया गया। तब से लेकर पुलिस लंगाह की गिरफ्तारी के लिए प्रयास कर रही थी। मंगलवार रात एसएसपी एचएस भुल्लर ने 9 राज्यों को पत्र जारी कर लंगाह की गिरफ्तारी के लिए मदद मांगी थी।
गुरदासपुर में आत्मसमर्पण से पहले लंगाह ने चंडीगढ़ की अदालत में आत्मसमर्पण की याचिका दाखिल की थी। उसके खारिज होने के बाद लंगाह ने हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए याचिका लगाई, लेकिन वह भी खारिज हो गई। अन्य कोई विकल्प न देखते हुए लंगाह ने सरेंडर किया।
 
Top