UNP

dard

आज कितने दिनों बाद बूंदें गिरीं, ये बारिश नहीं, कोई रो रहा है । तभी तो इतनी ठंडी हवा चल रही है, कोई दुखी मन से सो रहा है । .....


Go Back   UNP > Poetry > Punjabi Poetry

UNP

Register

  Views: 705
Old 10-04-2007
harry_aussie
 
dard

आज कितने दिनों बाद बूंदें गिरीं, ये बारिश नहीं, कोई रो रहा है । तभी तो इतनी ठंडी हवा चल रही है, कोई दुखी मन से सो रहा है । शोर मत मचाना, नहीं तो दर्द जाग डायेगा, और वो उसका प्यारा सा स्वप्न भी भाग जायेगा । इन बूंदों से उसका दर्द कम हो रहा है । तुम भी सो जाओ इस अहसास के साथ कि तुम्हारा दर्द तुम्हारे साथ सो रहा ह

 
Old 17-02-2009
jaggi633725
 
Re: dard

nice.

 
Old 19-02-2009
Rajat
 
Re: dard

tfs..


Reply
« ~Chad ve Sajna~ | supneya »

Contact Us - DMCA - Privacy - Top
UNP