UNP

दौड़-दौड़ के खुद को पकड़ के लाता ह

दौड़-दौड़ के खुद को पकड़ के लाता हूँ, तुम्हारे इश्क ने बच्चा बना दिया है मुझे।.....


[Timezone Detection]
Quick Register
Name:
Email:
Human Verification


Go Back   UNP > Poetry > Punjabi Poetry > 2 Liners

UNP

Register

  Views: 778
Old 26-05-2018
♚ ƤムƝƘムĴ ♚
 
दौड़-दौड़ के खुद को पकड़ के लाता ह

दौड़-दौड़ के खुद को पकड़ के लाता हूँ,
तुम्हारे इश्क ने बच्चा बना दिया है मुझे।


Reply
« इश्क़ वो है.. | दुसरों की शर्तों से सुल्तान बनने से अच्छा »

Similar Threads for : दौड़-दौड़ के खुद को पकड़ के लाता ह
रग रग मे दौड़ रही है
इंग्लैंड से हारकर भारत सेमिफाइनल की दौड़ ì
सेमीफाइनल की दौड़ से टीम इंडिया बाहर

Contact Us - DMCA - Privacy - Top
UNP