UNP

*।। मैं पैसा हूँ ।।

*।। मैं पैसा हूँ ।।* मैं भगवान् नहीं मगर लोग मुझे , भगवान् से कम नहीं मानते..!!???????? *।। मैं पैसा हूँ ।।* मुझे आप मरने के बाद ऊपर नहीं ले .....


Go Back   UNP > Poetry > Punjabi Poetry > Hindi Poetry

UNP

Register

« Aukaat | rukh »

 

  Views: 1905
Old 22-11-2016
Student of kalgidhar
 
*।। मैं पैसा हूँ ।।

*।। मैं पैसा हूँ ।।*

मैं भगवान् नहीं मगर लोग मुझे ,
भगवान् से कम नहीं मानते..!!????????

*।। मैं पैसा हूँ ।।*

मुझे आप मरने के बाद ऊपर
नहीं ले जा सकते;
मगर जीते जी मैं आपको
बहुत ऊपर ले जा सकता हूँ..!!


*।। मैं पैसा हूँ ।।*

मैं नई नई रिश्तेदारियाँ बनाता हूँ ,
मगर असली औऱ पुरानी
बिगाड़ देता हूँ...!!

*।। मैं पैसा हूँ ।।*

मैं नमक की तरह हूँ ,
जो जरुरी तो है मगर जरुरत से
ज्यादा हो तो जिंदगी का
स्वाद बिगाड़ देता है..!!


। मैं पैसा हूँ ।।*

मैं सारे फसाद की जड़ हूँ ,
मगर फिर भी न जाने क्यों..
सब मेरे पीछे
इतना पागल हैं..!!????????


*।। मैं पैसा हूँ ।।*

मैं आपके पास हूँ
तो आपका हूँ...
आपके पास नहीं हूँ
तो आपका नहीं हूँ...
मगर मैं आपके पास हूँ
तो सब आपके हैं..!!

 
Old 22-11-2016
Dhillon
 
Re: *।। मैं पैसा हूँ ।।

lol

 
Old 23-11-2016
Parv
 
Re: *।। मैं पैसा हूँ ।।

..vadia poem ae

 
Old 26-11-2016
raghu50
 
Re: *।। मैं पैसा हूँ ।।

That is a good one

 
Old 29-11-2016
Era
 
Re: *।। मैं पैसा हूँ ।।

Good one

 
Old 07-03-2017
newr
 
Re: *।। मैं पैसा हूँ ।।

Bht badhiya likha hai bhai

 
Old 01-09-2018
Mani_J
 
Re: *।। मैं पैसा हूँ ।।



Reply
« Aukaat | rukh »

Similar Threads for : *।। मैं पैसा हूँ ।।
हद हो गई अफवाह फैलाने की।।
सलाम इसकी मेहनत को।।
मैं नाई हूँ।
वो बहर के साथ गाता है बताओ क्या करूँ ।।
सुना है उस महफिल में वो बेनकाब आते हैं ।

Contact Us - DMCA - Privacy - Top
UNP