UNP

Kuch Iss Tarah - 1921 - Lyrics (Eng+Hindi)

Kuch Iss Tarah Lyrics – English Font Kuch Iss Tarah, Kuch Iss Tarah Ae Raat Thamm Zara Kuch Iss Tarah Kuch Iss Tarah, Kuch Iss Tarah Ae Raat Thamm Zara .....


Go Back   UNP > Contributions > Lyrics

UNP

Register

  Views: 450
Old 22-12-2017
Gurnam
 
Kuch Iss Tarah - 1921 - Lyrics (Eng+Hindi)

Kuch Iss Tarah Lyrics – English Font

Kuch Iss Tarah, Kuch Iss Tarah
Ae Raat Thamm Zara Kuch Iss Tarah

Kuch Iss Tarah, Kuch Iss Tarah
Ae Raat Thamm Zara Kuch Iss Tarah
Do Jism Se Ek Jaan Mein
Dhal Jayein Hum Zara Kuch Iss Tarah

Yeh Jo Chaand Ik Lakeer Sa Hai Aasman Par
Yoon Hi Aankh Mein Meri Rahe Chamakta Raat Bhar
Ae Baadlon Zara Si Tumse Ilteja Hai Yeh
Fanna Na Hon Ummeed Ke Sitare Doob Kar

Kuch Iss Tarah, Kuch Iss Tarah
Ae Raat Thamm Zara Kuch Iss Tarah
Do Jism Se Ek Jaan Mein
Dhal Jayein Hum Zara Kuch Iss Tarah

Alvida Humko Kahe Muskura Ke Maut Bhi
Thodi Si Saasein Chhupa Le Seene Mein Kahin
Jee Le Aa Ik Raat Mein Umra Bhar Ki Zindagi
Koyi Bhi Pal Reh Na Jaye Jeene Mein Kahin

Kuch Iss Tarah, Kuch Iss Tarah
Ae Raat Thamm Zara Kuch Iss Tarah
Do Jism Se Ek Jaan Mein
Dhal Jayein Hum Zara Kuch Iss Tarah

Rooh Ki Parwaz Pe Hain Parinde Ishq Ke
Humko Chahat Ki Nazar Se Dekh Lo Aasman
Aankh Mein Jo Ahq Hai
Chaand Ko Bhi Rashk Hai
Likh Rahe Hain Pyar Ki Hum Aisi Dastaan

Kuch Iss Tarah, Kuch Iss Tarah
Ae Raat Thamm Zara Kuch Iss Tarah
Do Jism Se Ek Jaan Mein
Dhal Jayein Hum Zara Kuch Iss Tarah


कुछ इस तरह – Hindi Font


कुछ इस तरह, कुछ इस तरह
ऐ रात थम्म ज़रा कुछ इस तरह

कुछ इस तरह, कुछ इस तरह
ऐ रात थम्म ज़रा कुछ इस तरह
दो जिस्म से एक जान में
ढल जाएं हम ज़रा कुछ इस तरह

ये जो चाँद इक लकीर सा है आसमान पर
यूं ही आँख में मेरी रहे चमकता रात भर
ऐ बादलों ज़रा सी तुमसे इल्तेजा है ये
फन्ना न हों उम्मीद के सितारे डूब कर

कुछ इस तरह , कुछ इस तरह
ऐ रात थम्म ज़रा कुछ इस तरह
दो जिस्म से एक जान में
ढल जाएं हम ज़रा कुछ इस तरह

अलविदा हमको कहे मुस्कुरा के मौत भी
थोड़ी सी सासें छुपा ले सीने में कहीं
जी ले आ इक रात में उम्र भर की ज़िन्दगी
कोई भी पल रह न जाये जीने में कहीं

कुछ इस तरह, कुछ इस तरह
ऐ रात थम्म ज़रा कुछ इस तरह
दो जिस्म से एक जान में
ढल जाएं हम ज़रा कुछ इस तरह

रूह की परवाज़ पे हैं परिंदे इश्क़ के
हमको चाहत की नज़र से देख लो आसमान
आँख में जो अहक़ है
चाँद को भी रश्क है
लिख रहे हैं प्यार की हम ऐसी दास्तान

कुछ इस तरह, कुछ इस तरह
ऐ रात थम्म ज़रा कुछ इस तरह
दो जिस्म से एक जान में
ढल जाएं हम ज़रा कुछ इस तरह


Reply
« Saareyan Nu Chaddeya - Adhyayan Suman - Lyrics | Swagpur Ka Chaudhary Lyrics - Kaalakaandi »

Similar Threads for : Kuch Iss Tarah - 1921 - Lyrics (Eng+Hindi)
Official Music Video Kuch Iss Tarah | 1921 | Zareen Khan & Karan Kundrra | Arnab Dutta | Harish Sagane
Lyrics Sun Le Zara - 1921 - Arnab Dutta - Lyrics
Lyrics Kuch Is Tarah lyrics (awesome song)
Lyrics Hindi Song Lyrics of Nazaara Hai Kuch Khoyi

UNP